​​

Back

Har Ki Pauri Ghat

हर की पौड़ी घाट


harkipodi, near krishna dham, Kharkhari, Haridwar, Uttarakhand 249401

हरकीपौड़ी ,कृष्णा धाम,खरखरी , हरिद्वार, उत्तराखंड 249401

Har Ki Pauri Ghat हर की पौड़ी घाट

Description

Har Ki Pauri is one of the most sacred ghats located in Haridwar, on the banks of Ganges in Uttarakhand. This famous place is considered as one of the major landmarks in the holy city of Haridwar. Literally, "Har" means "Lord Shiva", "Ki" means "of" and "Pauri" means "steps". It is believed that Lord Shiva and Lord Vishnu visited the Brahmakund in Har Ki Pauri in the Vedic ages. It is said that this is the accurate spot where the Ganges leaves the mountains and enters the plains. The ghat is on the west bank of Ganges canal through which the Ganges is diverted just to the north. Every day, Har Ki Pauri ghat witnesses hundreds taking a dip in the water of the Ganges. The place is considered very auspicious. The most stunning part of Har Ki Pauri is the Evening Ganga Aarti. One gets to witness the incredible sights of the priests holding large bowls of fire on one side and devotees standing on the other side. Added to that, the rhythmic sound of the gongs makes it a sight to behold for the rest of life. The devotees also float diyas and earthen lamps with burning flickers and flowers during the evening Aarti. These burning flickers symbolize the hopes and wishes of the devotees and the scene of hundreds of diyas in the ghat lake creates a spectacular and unmatched scene.

हर की पौड़ी उत्तराखंड में गंगा के किनारे हरिद्वार में स्थित सबसे पवित्र घाटों में से एक है। यह प्रसिद्ध स्थान पवित्र शहर हरिद्वार के प्रमुख स्थलों में से एक माना जाता है। शाब्दिक रूप से, "हर" का अर्थ "भगवान शिव", और "पौड़ी" का अर्थ है "चरण"। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव और भगवान विष्णु ने वैदिक युग में हर की पौड़ी में ब्रह्मकुंड का दौरा किया था। कहा जाता है कि यह सटीक स्थान है जहाँ गंगा पहाड़ों को छोड़कर मैदानों में प्रवेश करती है। हर दिन, हर की पौड़ी घाट पर सैकड़ों लोग गंगा के पानी में डुबकी लगाते हैं। हर की पौड़ी को बहुत शुभ माना जाता है। हर की पौड़ी की संध्या काल की गंगा आरती प्रसिद्ध है। सायंकालीन आरती के दौरान भक्त ज्योत और पुष्प के साथ दीये (मिट्टी के दीपक) भी जलाते है। दीपक की रौशनी भक्तों की आशाओं और इच्छाओं का प्रतीक हैं और गंगा घाट के नदी में सैकड़ों दीए का दृश्य एक शानदार दृश्य बनाता है।

Temple Story

Legend says that there was a terrible fight between the gods and the devils (Devdas and Asuras) for the nectar (Amrit) urn which was extracted out of the Samudra Manthan of Sheer Sagar. When this horrifying fight went out of control, Lord Vishnu disguised himself as a beautiful lady and charmed the Asuras to take away the urn which has the nectar for the Devas. However, the Asuras came to know the actual truth behind the beautiful lady soon and started chasing Lord Vishnu to obtain the urn. While the chase, a few drops of nectar fell down at a place which is now referred to as Brahmakund in Har Ki Pauri. After knowing about the cultural significance of this place, King Vikramaditya built it in the 1st century in the memory of his brother, Bharthari, who used to meditate here on the bank of Ganges.

किंवदंती कहती है कि देवताओं और असुरों के बीच अमृत कलश, जो कि शीर सागर के समुद्र मंथन से निकाला गया था, के लिए एक भयानक लड़ाई हुई थी । जब यह भयावह लड़ाई नियंत्रण से बाहर हो गई, तो भगवान विष्णु ने एक सुंदर महिला के रूप में खुद को प्रच्छन्न किया ताकि वे असुरों से अमृत छीन सके। हालांकि, असुरों को जल्द ही सुंदर महिला के पीछे का वास्तविक सच पता चल गया और उन्होंने भगवान विष्णु से कलश प्राप्त करने के लिए उनका पीछा करना शुरू कर दिया। पीछा करते समय, अमृत की कुछ बूंदें एक स्थान पर गिर गईं, जिसे अब हर की पौड़ी में ब्रह्मकुंड के रूप में जाना जाता है। इस स्थान के सांस्कृतिक महत्व के बारे में जानने के बाद, राजा विक्रमादित्य ने पहली शताब्दी में अपने भाई, भरथरी की याद में मंदिर का निर्माण किया, क्युकी उनके भाई गंगा के तट पर यहां पर ध्यान किया करते थे।

Location

Photos

Latest Feed

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Maha Kumbh: Darshan Niranjani Akhada Shahi snan April, 2021

Maha Kumbh: Darshan Niranjani Akhada Shahi snan April, 2021

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

हरिद्वार गंगा नदी के तट पर 151 शंख की धवानी

हरिद्वार गंगा नदी के तट पर 151 शंख की धवानी

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

माँ गंगा आरती दिनांक अप्रैल 9, 2021

माँ गंगा आरती दिनांक अप्रैल 9, 2021

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Maa Ganga Aarti Evening Darshan April 5, 2021

Maa Ganga Aarti Evening Darshan April 5, 2021

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

माँ गंगा दर्शन | Maa Ganga Darshan

माँ गंगा दर्शन | Maa Ganga Darshan

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Ganga Aarti

Ganga Aarti

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

गंगा आरती की झलक अप्रैल 2, 2021

गंगा आरती की झलक अप्रैल 2, 2021

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Kumbh Mela Official Dates: April 1, 2021 to April 30, 2021 | महाकुंभ 2021 दिनांक: अप्रैल 1, 2021- अप्रैल 30, 2021

Kumbh Mela Official Dates: April 1, 2021 to April 30, 2021 | महाकुंभ 2021 दिनांक: अप्रैल 1, 2021- अप्रैल 30, 2021

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Mahakumbh 2021 begins | महाकुंभ 2021 आरम्भ

Mahakumbh 2021 begins | महाकुंभ 2021 आरम्भ

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

माँ गंगा आरती

माँ गंगा आरती

Location

Photos

​ ​