bookendL

bookend

PanditCard
PanditCard
Panditji

bookendL

bookend
1

2

3

4

bookendL

bookend

t0 Circle

451

Individual Puja

व्यक्तिगत पूजा

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Haridwar on Purnima

  • CardLow

    Individual’s Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan, Vastra & 56 Bhog to Shri Lakshmi Narayan

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    पूर्णिमा पर हरिद्वार से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, व्यक्तिगत नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    आप हरिद्वार में श्री लक्ष्मी नारायण को ब्राह्मण भोजन, वस्त्र और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

t1 Circle

751

Family Puja

परिवार पूजा

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Haridwar on Purnima

  • CardLow

    Family Members’ Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan, Vastra & 56 Bhog to Shri Lakshmi Narayan

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    पूर्णिमा पर हरिद्वार से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, परिवार के सदस्यों के नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    आप हरिद्वार में श्री लक्ष्मी नारायण को ब्राह्मण भोजन, वस्त्र और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

t2 Circle

1551

Family Puja +
Vastra +
Shringar

परिवार पूजा +
वस्त्र +
श्रृंगार

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Haridwar on Purnima

  • CardLow

    Family Members’ Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    Vastra and Shringar will be offered to Shri Lakshmi Narayan in Haridwar on Purnima

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan & 56 Bhog to Shri Lakshmi Narayan

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    पूर्णिमा पर हरिद्वार से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, परिवार के सदस्यों के नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    पूर्णिमा पर हरिद्वार में श्री लक्ष्मी नारायण को वस्त्र एवं श्रृंगार भेंट अर्पण की जाएगी

  • CardLow

    आप हरिद्वार में श्री लक्ष्मी नारायण को ब्राह्मण भोजन और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

t3 Circle

3551

Family Puja+

Shringar + 56 Bhog

परिवार पूजा +

श्रृंगार + 56 भोग

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Haridwar on Purnima

  • CardLow

    Family Members’ Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    56 Bhog and Shringar will be offered to Shri Lakshmi Narayan in Haridwar on Purnima

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan & Vastra to Shri Lakshmi Narayan

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    पूर्णिमा पर हरिद्वार से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, परिवार के सदस्यों के नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    पूर्णिमा पर हरिद्वार में श्री लक्ष्मी नारायण को 56 भोग एवं श्रृंगार भेंट अर्पण की जाएगी

  • CardLow

    आप हरिद्वार में श्री लक्ष्मी नारायण को ब्राह्मण भोजन और वस्त्र भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

bookendL

bookend

bookendL

bookend

Sat Dec 18 2021 09:30AM

Margashirsha Purnima Satyanarayan Katha, Vishnu Sahasranama & Shri Lakshmi Narayan Panchamrit Abhishek

मार्गशीर्ष पूर्णिमा सत्यनारायण कथा, विष्णु सहस्रनाम & श्री लक्ष्मी नारायण पंचामृत अभिषेक

Fri May 14 2021 07:30AM

Shri Lakshmi Narayan Akshaya Tritiya Puja at Pashupati Mahadev Mandir, Haridwar

अक्षय तृतीया पूजा

bookendL

bookend

Started by IIT graduates, DevDarshan is Devotional Platform for 5000+ Hindu Temples in the Indian Subcontinent. DevDarshan’s long term vision is to provide a digital platform to Temples and Gurus for sharing the millennia-old teachings of Indian culture in the world and by doing so, projecting Bharat (India) as Vishwa Guru (Universal Leader) through its rich cultural and spiritual heritage.


DevDarshan facilitates online Daily Darshan, Pujas and Digital Donations for Devotees. DevDarshan has onboarded 100+ Temples across 16 states including but not limited to ISKCON (Vrindavan), ISKCON (Ghaziabad), ISKCON (Srinagar), ISKCON (Jodhpur), ISKCON (Durgapur), ISKCON (Bareilly), Jyotirlinga Ghushmeshwar Nath Temple (Pratapgarh), Jyotirlinga Mamleshwar (Omkareshwar), Kaal Bhairav Mandir (Ujjain), Chintaman Ganesh Mandir (Ujjain), Tapkeshwar Mandir (Dehradun), Pashupati Nath Mandir (Haridwar), Shaktipeeth Chamunda Devi (Kangra), Shaktipeeth Maa Bajreshwari Devi (Kangra), Shaktipeeth Maa Baglamukhi Mandir (Kangra), Shaktipeeth Maa Vindyavasini Mandir (Mirzapur), Shaktipeeth Maa Harsiddhi Mandir (Ujjain), Shaktipeeth Maa Gadkalika Mandir (Ujjain), Kalkaji Mandir (Delhi), Durgiana Mandir (Amritsar), Maa Mundeshwari Temple (Bihar), Vrindavan Chandrodaya Temple, Badi Kali ji Mandir (Lucknow), Nagvasuki Mandir (Prayagraj).


You can find more details about DevDarshan and our team.

IIT स्नातकों द्वारा आरम्भ किया गया, देवदर्शन, भारत के 5000+ हिंदू मंदिरों के लिए आध्यतमिक मंच है। देवदर्शन का दृष्टिकोण हिंदू मंदिरों और गुरुओं को एक डिजिटल मंच प्रदान करना जहाँ वे भारत की आध्यात्मिक शिक्षा एवं हिंदू जीवन शैली का प्रसार कर सके और पूरे विश्व को विश्वगुरु भारत की महान संस्कृति व विरासत का ज्ञान दे सके। देवदर्शन पर मंदिर दर्शन, पूजा बुकिंग और डिजिटल दान की सुविधा उपलब्ध है।


देवदर्शन मंच के साथ 16 राज्यों में स्थित 100+ मंदिर जुड़े हुए है: इस्कॉन (वृन्दावन), इस्कॉन (गाजियाबाद), इस्कॉन (इंदौर), इस्कॉन (श्रीनगर), इस्कॉन (दुर्गापुर), इस्कॉन (जोधपुर), ज्योतिर्लिंग घुश्मेश्वर नाथ (प्रतापगढ़), ज्योतिर्लिंग ममलेश्वर (ओंकारेश्वर), काल भैरव मंदिर (उज्जैन), चिंतामन गणेश मंदिर (उज्जैन), पशुपति नाथ मंदिर (हरिद्वार), टपकेश्वर मंदिर (देहरादून), शक्तिपीठ चामुंडा देवी (कांगड़ा), शक्तिपीठ मां बजरेश्वरी देवी (कांगड़ा), शक्तिपीठ मां बगलामुखी मंदिर (कांगड़ा), शक्तिपीठ मां विंध्यवासिनी मंदिर (मिर्ज़ापुर) , शक्तिपीठ मां हरसिद्धि मंदिर (उज्जैन), बिजासन माता मंदिर (इंदौर), कालकाजी मंदिर (दिल्ली), माँ मुंडेश्वरी मंदिर (बिहार), वृंदावन चंद्रोदय मंदिर, बडी काली जी मंदिर (लखनऊ), नागवासुकी मंदिर (प्रयागराज) आदिदेवदर्शन और हमारी टीम के बारे में अधिक जानकारी यहाँ प्राप्त कर सकते हैं।आप।

Live Streaming or the recorded video of Puja will be available for all registered Devotees on Pausha Purnima.


Live Streaming or the recorded video of Puja will be available on DevDarshan App , which you can download on your Android Smartphone. Live Streaming will also be available on DevDarshan YouTube Channel and DevDarshan Facebook page. More details will be shared with you via whatsapp and email once you register for the Puja.


Your Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp. Please, make a wish in your mind while watching the Digital Puja from your home so that Shri Vishnu & Maa Lakshmi can bestow blessings on you and fulfill that wish.

पौष पूर्णिमा पर पंजीकृत श्रद्धालुओं के लिए, पूजा और आरती की लाइव स्ट्रीमिंग अथवा रिकार्डेड वीडियो उपलब्ध होगी।


पूजा की लाइव स्ट्रीमिंग अथवा रिकार्डेड वीडियो देवदर्शन ऐप में उपलब्ध होगी, जिसे आप इस लिंक के माध्यम से अपने एंड्रॉयड स्मार्टफ़ोन पर डाउनलोड कर सकते हैं।


पूजा की लाइव स्ट्रीमिंग अथवा रिकॉर्डेड वीडियो देवदर्शन यूट्यूब चैनल और देवदर्शन फेसबुक पेज पर भी उपलब्ध होगी। पूजा के लिए पंजीकरण करने के पश्चात, और अधिक जानकारी व्हाट्सएप और ईमेल के माध्यम से आपके साथ साझा की जाएगी।


आपका नाम और गोत्र, पूजा में संकल्प के दौरान लिया जाएगा। कृपया, अपने घर से पूजा को देखते हुए मन में एक इच्छा करें ताकि श्री लक्ष्मी नारायण आप पर और आपके परिवार पर अपना आशीर्वाद बनाये रखें और उस इच्छा को पूरा कर सकें।

Purnima or Full Moon has great significance in Hinduism. To attain salvation, Devotees observe fast and participate in Puja on Purnima. Pausha Purnima is considered very special from the devotional aspect. On this day, Donating to Brahmans, Taking Ganga bath, Worshipping Shri Lakshmi Narayan and Offering Arghya to Sun have special significance. According to astrology, the month of Pausha is dedicated to Surya Dev. On the day of Paush Purnima, devotees gather in Kashi, Haridwar and Prayagraj to bath in the Ganges.


Paush Purnima on January 17, 2022: Muhurta is from 3:15 AM on 17 January to 5:15 AM on 18 January. Participating in Puja on Pausha Purnima helps in fullfiling all the wishes of Devotees and helps in removing obstacles in Devotees' life.

हिंदू धर्म में पूर्णिमा का बड़ा महत्व होता है। मोक्ष प्राप्ति के लिए पूर्णिमा तिथि को व्रत किया जाता है। इस दिन चंद्रमा अपने पूर्ण आकार में होता है। पौष पूर्णिमा को धार्मिक पहलू से बेहद खास माना जाता है। इस दिन दान, गंगा स्नान, लक्ष्मी नारायण पूजा और सूर्य देव को अर्घ्य देने का विशेष महत्व है। ज्योतिष के मुताबिक पौष माह भगवान सूर्य को समर्पित होता है। पौष पूर्णिमा के दिन काशी, हरिद्वार और प्रयागराज में गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होती है।


इस वर्ष पौष पूर्णिमा 17 जनवरी 2022 दिन सोमवार को सुबह 3 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 18 जनवरी, मंगलवार की सुबह 5 बजकर 15 मिनट तक शुभ मुहूर्त रहेगा। इस दौरान व्रत और नदियों में पूजन करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है और जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होती है।

The significance of Satyanarayan Katha is mentioned beautifully in the Hindu scriptures. It is believed that reciting or listening to the Satyanarayan Katha at the beginning of an auspicious work or at the end of funeral rites is considered. The Satyanarayan Katha teaches the importance of truth in life. Fasting and worshiping Lord Satyanarayan is considered the best way to get rid of struggles and obstacles in life.


It is believed in Sanatan Dharma that Lord Vishnu comes in the form of Satya in the Kaliyuga to fulfill the wishes and desires of his devotees. This is the reason that since ancient times, the ritual of Satyanarayan Vrat Katha has been followed for happiness, prosperity, peace and for a happy married life. By performing the rituals of fasting and worshiping the form of Satyanarayana, all the sorrows of human beings come to an end.

शास्‍त्रों में सत्‍यनारायण कथा का व‍िशेष महत्‍व है। शुभ कार्य हो या मृतक संस्‍कार की समाप्ति दोनों ही समय पर सत्यनारायण व्रत कथा सुनना बहुत ही शुभ होता है क्योंकि सत्यनारायण का पूजन जीवन में सत्य का महत्व बताता है। हर तरह के कल्याण के लिए सत्यनारायण भगवान का व्रत, कथा और पूजा सबसे उत्तम होता है।


मान्यता है कि सनातन धर्म में सत्यरूपी विष्णु भगवान कलियुग में अलग-अलग रूप में आकर लोगों को मनवांछित फल प्रदान करते हैं। यही कारण है कि प्राचीन काल से ही सत्यनारायण व्रत का अनुष्ठान सुख-समृद्धि, गृह शांति, सुखद दांपत्‍य जीवन के लिए होता आ रहा है। सत्यनारायण के रूप में व्रत-पूजा का अनुष्ठान करने मनुष्य के सभी दु:खों का अंत हो जाता है।

Lord Vishnu can be worshipped through many verses, but the Vishnu Sahasranama is considered to be the most influential. Vishnu Sahasranama is dedicated to 1000 names of Shri Vishnu. Chanting Vishnu Sahasranama can help in removing various curses and misfortunes. Lord Vishnu has been called the protector of life and the universe. It is believed that Lord Vishnu sustains various forms of life on earth.


Vishnu Sahasranama Mantra


नमो स्तवन अनंताय सहस्त्र मूर्तये, सहस्त्रपादाक्षि शिरोरु बाहवे।

सहस्त्र नाम्ने पुरुषाय शाश्वते, सहस्त्रकोटि युग धारिणे नमः।।


Vishnu Sahasranama also helps in the resolution of Horoscope Doshas. By chanting it regularly, happiness and peace is said to sustain in the house. By chanting and listening to it, all sins and fears of an individual are removed.

ऐसे तो विष्णुजी का पूजा करने वाले कई श्लोक हैं। इनमें सबसे प्रभावशाली विष्णु सहस्रनाम है। विष्णु सहस्त्रनाम में सहस्र अर्थात एक हजार नामों की सूची है। विष्णु सहस्रनाम का जाप करने से विभिन्न अभिशापों और दुर्भाग्य को दूर करने में मदद मिल सकती है। शास्त्रों में भगवान विष्णु को जीवन संरक्षक कहा गया है। विष्णु जी पृथ्वी पर जीवन के विभिन्न रूपों का निर्वाह करते हैं।


विष्णु सहस्रनाम मंत्र


नमो स्तवन अनंताय सहस्त्र मूर्तये, सहस्त्रपादाक्षि शिरोरु बाहवे।

सहस्त्र नाम्ने पुरुषाय शाश्वते, सहस्त्रकोटि युग धारिणे नमः।।


विष्णु सहस्रनाम उन दोषों को दूर करने में भी मदद करता है, जो किसी की जन्म कुंडली में ग्रहों की खराब स्थिति से उत्पन्न होते हैं। इसका नियमित जाप करने से घर में सुख शांति बनी रहती है। इसका जाप करने और सुनने से पाप व भय दूर होते हैं।

Panchamrit is said to be the most favourite bhog of Shri Lakshmi Narayan. Panchamrit has special significance in the worship of Lord Vishnu. Without this Shri Hari or his incarnations cannot be worshipped. By offering Panchamrit in Shri Lakshmi Narayan Puja, the supreme blessings of Lord Vishnu and Maa Lakshmi are obtained. There are five special things required to make Panchamrit. These 5 things are as follows: milk, curd, ghee, sugar and honey.

भगवान श्री लक्ष्मी नारायण का पसंदीदा भोग ‘पंचामृत’ है। विष्णु भगवान की पूजा में पंचामृत का विशेष महत्व है। इसके बिना श्री हरि अथवा इनके अवतारों की पूजा नहीं हो सकती है। श्री लक्ष्मी नारायण पूजा में पंचामृत अर्पित करने से विष्णु जी की परम कृपा प्राप्त होती है। आपको बता दें, पंचामृत बनाने के लिए पांच विशेष चीजों की आवश्यकता होती है। ये 5 चीजें हैं- दूध, दही, घी, शक्कर और शहद।

Offering Bhog to any deity or Goddess holds great significance in Hindu worship. Worship of any God or Goddess is considered incomplete without offering Bhog. Lord Vishnu and Maa Lakshmi like Panchamrit and Halwa. So by offering Panchamrit and Halwa while worshiping them, the supreme grace of Shri Lakshmi Narayan is obtained. This brings happiness, wealth and prosperity in the house of the devotees.

पूजा के दौरान किसी देवी या देवता के समक्ष प्रसाद चढ़ाने की विशेष मान्यता है। भगवान को भोग दिए बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। भगवान विष्णु एवं माँ लक्ष्मी को पंजामृत और हलवा पसंद है। पूजा में पंजामृत और हलवा अर्पित करने से श्री लक्ष्मी नारायण की परम कृपा प्राप्त होती है। इससे घर में सुख-संपत्ति, धन, वैभव और समृद्धि आती है।

According to the scriptures, Shri Lakshmi Narayan likes yellow clothes. Offering clothes or 'Vastra' to Shri Lakshmi Narayan brings long life, health, prosperity and success in business. Devotees also offer 'Vastra' or clothes to seek the divine blessings of Lord Vishnu and to get their wishes fulfilled.

शास्त्रों के अनुसार श्री लक्ष्मी नारायण को पीले वस्त्र पसंद हैं। श्री लक्ष्मी नारायण को वस्त्र अर्पित करने से लंबी आयु, स्वास्थ्य, समृद्धि और व्यापार में सफलता मिलती है। अगर आप भी भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की कृपा पाना चाहते हैं तो श्री लक्ष्मी नारायण पूजा में वस्त्र अवश्य दान करें।

Brahman Bhojan is a ritual performed for the departed souls of ancestors. Brahman bhoj is done to satisfy the desires of the souls of our ancestors and let them rest in peace. Brahman Bhoj rituals help cleanse all the sins of our forefathers and help their souls to attain moksha. Also, the one who performs this ritual is said to earn good karma and is liberated from bad Karmas of past and present life.


On the auspicious occasion of Purnima, offering Bhojan and Dakshina to Brahman is believed to absolve individuals from all sins. It is also believed that unless a Brahman prays to God through the chanting of Mantras, God cannot come and attend the puja rituals. Therefore, Brahman Bhoj is considered essential for the Puja in Hindu Dharma.

ब्राह्मण भोज पूर्वजों की दिवंगत आत्माओं के लिए किया जाने वाला अनुष्ठान है। ब्राह्मण भोज हमारे पूर्वजों की आत्माओं की अधूरी इच्छाओं को पूरा करने के लिए किया जाता है। ब्राह्मण भोज हमारे पूर्वजों को उनके पापों से मुक्त करने के लिए किया जाता है और उनकी आत्माओं को मोक्ष प्राप्त करने में मदद करता हैं। साथ ही, जो ये अनुष्ठान करवाता है, उसको पुण्य प्राप्त होता है और अतीत और वर्तमान जीवन के बुरे कर्मों से मुक्ति मिलती है।


ऐसा माना जाता है कि पूर्णिमा पर ब्राह्मण को भोजन और दक्षिणा की भेंट अर्पण करने से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। यह भी माना जाता है कि जब तक कोई ब्राह्मण मंत्रों के उच्चारण के माध्यम से भगवान से प्रार्थना नहीं करता है, तब तक भगवान पूजा अनुष्ठानों में नहीं आते। इसलिए, हिंदू धर्म में पूजा के लिए ब्राह्मण भोज को आवश्यक माना जाता है।

Panch Meva is a combination of five dry fruits. Panch Meva is related to 5 elements in the universe, namely Water, Fire, Earth, Sky and Wind. Panch Meva Prasad mainly includes almond, raisins, dry coconut, makhana and dry dates. In addition to spiritual benefits, the Prasad has health benefits for the Devotees.


Prasad will be delivered via courier to your home address that you will submit after the payment process. It will be delivered after the Puja will be conducted by chanting your Name & Gotra in Haridwar on Purnima.

पंच मेवा प्रसाद पाँच सूखे मेवों के मिश्रण से बना है। पंच मेवा प्रसाद, ब्रह्मांड के 5 तत्वों का प्रतिनिधित्व करता है, जल, अग्नि, पृथ्वी, आकाश और पवन। पंच मेवा प्रसाद में मुख्य रूप से बादाम, किशमिश, सूखा नारियल, मखाना और सूखी खजूर शामिल होती हैं। आध्यात्मिक लाभ के साथ, प्रसाद भक्तों के स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होता हैं।


प्रसाद को आपके घर के पते पर संदेशवाहक(कूरियर) के माध्यम से भेजा जाएगा। पूर्णिमा कोहरिद्वार में आपके नाम, गोत्र का उच्चारण करके, पूजा के पश्चात्, प्रसाद आपके घर भेजा जायेगा।

In case, you don't know your Gotra, add your caste during the registration process for Puja. In case you don’t know that, add your full name during the registration process. These details would be chanted by Pandit ji during Puja. Feel free to contact us at +919015367944

यदि आपको अपना गोत्र पता नहीं है, पूजा के लिए पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान अपनी जाति लिखे। यदि ,आप यह भी नहीं जानते तो, पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान अपना पूरा नाम लिखे। इन विवरणों का पंडित जी द्वारा पूजा के दौरान जाप किया जाएगा। आप हमसे यहाँ पर समपर्क +919015367944 कर सकते है।

DevDarshan has family packages available for Puja. Please contact us at +919015367944 via a call or WhatsApp for the family package.

देवदर्शन में पूजा के लिए पारिवारिक पैकेज उपलब्ध हैं। परिवार पैकेज के लिए कॉल या व्हाट्सएप के माध्यम से +919015367944 संपर्क कर सकते है।

bookendL

bookend
WhatsappImage
WhatsappImage