PanditCard
PanditCard
Panditji


Panditji
bookendL

bookend
1

2

3

4

bookendL

bookend

t0 Circle

11

$

Individual Puja

व्यक्तिगत पूजा

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Nagvasuki Mandir Prayagraj on Pradosh Vrat & Shivratri

  • CardLow

    Individual’s Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan, Rudraksh Mala, Silver Snake, Vastra & 56 Bhog to Lord Shiva and Nag Devta

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    प्रदोष व्रत एवं शिवरात्रि पर नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, व्यक्तिगत नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    आप प्रयागराज में ब्राह्मण भोजन, रुद्राक्ष माला, चांदी के सर्प, वस्त्र और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

t1 Circle

21

$

Family Puja

परिवार पूजा

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Nagvasuki Mandir Prayagraj on Pradosh Vrat & Shivratri

  • CardLow

    Family Members’ Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan, Rudraksh Mala, Silver Snake, Vastra & 56 Bhog to Lord Shiva and Nag Devta

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    प्रदोष व्रत एवं शिवरात्रि पर नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, परिवार के सदस्यों के नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    आप प्रयागराज में ब्राह्मण भोजन, रुद्राक्ष माला, चांदी के सर्प, वस्त्र और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

t2 Circle

21

$

Family Puja +
Silver Snake Offerings

परिवार पूजा +
चांदी के सर्प की भेंट

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Nagvasuki Mandir Prayagraj on Pradosh Vrat & Shivratri

  • CardLow

    Family Members’ Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    Silver Snake will be offered to Lord Shiva & Nag Devta in your name in Nagvasuki Mandir, Prayagraj

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan, Rudraksh Mala, Vastra & 56 Bhog to Lord Shiva and Nag Devta

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    प्रदोष व्रत एवं शिवरात्रि पर नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, परिवार के सदस्यों के नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज में आपके नाम में भगवान शिव शंकर और नाग देवता को चांदी के सर्प की भेंट अर्पण की जाएगी

  • CardLow

    आप प्रयागराज में ब्राह्मण भोजन, रुद्राक्ष माला, वस्त्र और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

t3 Circle

41

$

Family Puja +
Shringar +
Silver Snake +
Vastra Offerings

परिवार पूजा+
श्रृंगार+
वस्त्र +
चांदी के सर्प की भेंट

t1 pricecardline
  • CardLow

    Link for recorded video or Live Streaming of Puja in Nagvasuki Mandir Prayagraj on Pradosh Vrat & Shivratri

  • CardLow

    Family Members’ Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp

  • CardLow

    Silver Snake, Shringar & Vastra will be offered to Lord Shiva & Nag Devta in your name in Nagvasuki Mandir, Prayagraj

  • CardLow

    You can choose to offer Brahman Bhojan, Rudraksh Mala & 56 Bhog to Lord Shiva and Nag Devta

  • CardLow

    100 grams Panchmeva Prasad will be shipped from the Temple for Home Delivery in India

  • CardLow

    प्रदोष व्रत एवं शिवरात्रि पर नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज से पूजा की रिकॉर्डेड वीडियो अथवा लाइव स्ट्रीमिंग का लिंक आपको भेजा जायेगा

  • CardLow

    पूजा संकल्प के समय, परिवार के सदस्यों के नाम और गोत्र का उच्चारण किया जाएगा

  • CardLow

    नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज में आपके नाम में भगवान शिव शंकर और नाग देवता को चांदी के सर्प, श्रृंगार एवं वस्त्र की भेंट अर्पण की जाएगी

  • CardLow

    आप प्रयागराज में ब्राह्मण भोजन, रुद्राक्ष माला और 56 भोग भेंट अर्पण करने का चयन कर सकते है

  • CardLow

    मंदिर से 100 ग्राम पंचमेवा प्रसाद आपके घर तक भेजा जायेगा

bookendL

bookend

bookendL

bookend

Thu Nov 18 2021 09:30AM

Dev Diwali Jyotirlinga Mamleshwar, Omkareshwar

देव दिवाली ज्योतिर्लिंग ममलेश्वर, ओंकारेश्वर

Fri Aug 13 2021 10:00AM

Nag Panchami Kaal Sarp Dosha Puja and Rudrabhishek Puja

नाग पंचमी काल सर्प दोष पूजा और रुद्राभिषेक पूजा

bookendL

bookend

Started by IIT graduates, DevDarshan is Devotional Platform for 5000+ Hindu Temples in the Indian Subcontinent. DevDarshan’s long term vision is to provide a Digital Platform to Temples and Gurus for sharing the millennia-old teachings of Indian culture in the world and by doing so, projecting Bharat (India) as Vishwa Guru (Universal Leader) through its rich cultural and spiritual heritage.

DevDarshan facilitates online Daily Darshan, Pujas and Digital Donations for Devotees. DevDarshan has onboarded 100+ Temples across 16 states including but not limited to Shaktipeeth Chamunda Devi (Kangra), Shaktipeeth Maa Bajreshwari Devi (Kangra), Shaktipeeth Maa Baglamukhi Mandir (Kangra), Shaktipeeth Maa Vindyavasini Mandir (Mirzapur), Shaktipeeth Maa Harsiddhi Mandir (Ujjain), Shaktipeeth Maa Gadhkalika Mandir (Ujjain), Shaktipeeth Tripura Sundari (Agartala), Bijasan Mata Mandir (Indore), Kalkaji Mandir (Delhi), Durgiana Mandir (Amritsar), Maa Mundeshwari Temple (Bihar), Jyotirlinga Ghushmeshwar Nath Temple (Pratapgarh), Jyotirlinga Mamleshwar (Omkareshwar), Prachin Vishnu Mandir (Omkareshwar), Kaal Bhairav Mandir (Ujjain), Chintaman Ganesh Mandir (Ujjain), Tapkeshwar Mandir (Dehradun), Pashupati Nath Mandir (Haridwar), Vrindavan Chandrodaya Temple, Badi Kali ji Mandir (Lucknow), Nagvasuki Mandir (Prayagraj), ISKCON (Vrindavan), ISKCON (Ghaziabad), ISKCON (Srinagar).

You can find more details about DevDarshan and our team.

IIT स्नातकों द्वारा आरम्भ किया गया, देवदर्शन, भारत के 5000+ हिंदू मंदिरों के लिए आध्यतमिक मंच है। देवदर्शन का दृष्टिकोण हिंदू मंदिरों और गुरुओं को एक डिजिटल मंच प्रदान करना जहाँ वे भारत की आध्यात्मिक शिक्षा एवं हिंदू जीवन शैली का प्रसार कर सके और पूरे विश्व को विश्वगुरु भारत की महान संस्कृति व विरासत का ज्ञान दे सके। देवदर्शन पर मंदिर दर्शन, पूजा बुकिंग और डिजिटल दान की सुविधा उपलब्ध है।

देवदर्शन मंच के साथ 16 राज्यों में स्थित 100+ मंदिर जुड़े हुए है: शक्तिपीठ चामुंडा देवी (कांगड़ा), शक्तिपीठ मां बजरेश्वरी देवी (कांगड़ा), सिद्धपीठ मां बगलामुखी मंदिर (कांगड़ा), शक्तिपीठ मां विंध्यवासिनी मंदिर (मिर्ज़ापुर) , शक्तिपीठ मां हरसिद्धि मंदिर (उज्जैन), शक्तिपीठ मां गढ़कालिका मंदिर (उज्जैन), शक्तिपीठ त्रिपुरा सुंदरी (अगरतला), बिजासन माता मंदिर (इंदौर), कालकाजी मंदिर (दिल्ली), माँ मुंडेश्वरी मंदिर (बिहार), ज्योतिर्लिंग घुश्मेश्वर नाथ (प्रतापगढ़), पशुपति महादेव मंदिर (हरिद्वार), ज्योतिर्लिंग ममलेश्वर (ओंकारेश्वर), प्राचीन विष्णु मंदिर (ओंकारेश्वर), काल भैरव मंदिर (उज्जैन), चिंतामन गणेश मंदिर (उज्जैन), टपकेश्वर मंदिर (देहरादून), जगन्नाथ पूरी, वृंदावन चंद्रोदय मंदिर, बडी काली जी मंदिर (लखनऊ), नागवासुकी मंदिर (प्रयागराज), इस्कॉन (वृन्दावन), इस्कॉन (गाज़ियाबाद), इस्कॉन (इंदौर), आदि।

आप देवदर्शन और हमारी टीम के बारे में अधिक जानकारी यहाँ प्राप्त कर सकते हैं।

Live Streaming or the recorded video of Puja will be available for all registered Devotees on Pradosh Vrat & Shivratri.

Live Streaming or the recorded video of Puja will be available on DevDarshan App , which you can download on your Android Smartphone. Live Streaming will also be available on DevDarshan YouTube Channel and DevDarshan Facebook page. More details will be shared with you via whatsapp and email once you register for the Puja.

Your Name and Gotra will be chanted during the Puja Sankalp. Please, make a wish in your mind while watching the Digital Puja from your home so that Lord Shiva and Nag Devta can bestow blessings on you and fulfill that wish.

प्रदोष व्रत और शिवरात्रि पर पंजीकृत श्रद्धालुओं के लिए, पूजा और आरती की लाइव स्ट्रीमिंग अथवा रिकार्डेड वीडियो उपलब्ध होगी।

पूजा की लाइव स्ट्रीमिंग अथवा रिकार्डेड वीडियो देवदर्शन ऐप में उपलब्ध होगी, जिसे आप इस लिंक के माध्यम से अपने एंड्रॉयड स्मार्टफ़ोन पर डाउनलोड कर सकते हैं।

पूजा की लाइव स्ट्रीमिंग अथवा रिकॉर्डेड वीडियो देवदर्शन यूट्यूब चैनल और देवदर्शन फेसबुक पेज पर भी उपलब्ध होगी। पूजा के लिए पंजीकरण करने के पश्चात, और अधिक जानकारी व्हाट्सएप और ईमेल के माध्यम से आपके साथ साझा की जाएगी।

आपका नाम और गोत्र, पूजा में संकल्प के दौरान लिया जाएगा। कृपया, अपने घर से पूजा को देखते हुए मन में एक इच्छा करें ताकि भगवान शिव शंकर और नाग देवता आप पर और आपके परिवार पर अपना आशीर्वाद बनाये रखें और उस इच्छा को पूरा कर सकें।

Roli, Sacred Thread, Diya, Ashes, Vermilion, Flower Garland, Bilva Patra (Bel-Patra), Cloves, Cardamom, Betel Leaf, Perfume, Sugar, Camphor, Rose Water, Ganga Jal, Honey, Incense Sticks, Ghee, Milk, Yogurt, Sweets, Fruits, Panch Meva, Vastra (clothing) for Nag Devta Lord Shiva, Maa Parvati, Shri Ganesha and Nandi.

रोली, मौली, दीपक, भस्म, सिन्दूर, फूल माला, बिल्वपत्र, लौंग, इलायची, पान, इत्र, चीनी, गुलाब जल, गंगा जल, शहद, कपूर, अगरबत्ती, घी, दूध, दही, मिठाई, पंच मेवा प्रसाद, फल, शिव शंकर, नाग देवता और माँ पार्वती, गणेश जी और नंदी बैल के लिए वस्त्र और श्रृंगार इत्यादि।

Devotees of Lord Shiva observe the Pradosh vrat on the Trayodashi Tithi (thirteenth day) of both Pakshas - Shukla Paksha (Waxing Moon Fortnight) and Krishna Paksha (Waning Moon Fortnight) every month. On Pradosh Vrat, Rudrabhishek Puja is conducted in Devotees’ name by Pandit ji during Brahma Muhurta. This is followed by Devotees’ Sankalp to observe the fast with devotion.

It is believed that by participating in Rudrabhishek Puja & Kaal Sarpa Dosh Puja on Pradosh Vrat alleviates suffering and blesses one with good health, wealth and good fortune. According to Hindu mythology, Lord Shiva liberated Chandra Dev (Moon) from a King’s curse on Pradosh Vrat. Therefore, it is also believed that those who observe Pradosh Vrat and participate in Lord Shiva’s Puja on this auspicious day get freedom from all their past and present sins.

भगवान शिव के भक्त, हर महीने दोनों पक्ष, शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष, की त्रयोदशी तिथि पर प्रदोष व्रत रखते हैं। प्रदोष व्रत पर ब्रह्म मुहूर्त के दौरान पंडित जी द्वारा भक्तों के नाम मे रुद्राभिषेक पूजा की जाती है। इसके पश्चात, भक्त संकल्प करके व्रत का पालन करता है।

ऐसा माना जाता है कि प्रदोष व्रत पर रुद्राभिषेक पूजा में भाग लेने से कष्ट दूर होते हैं और अच्छे स्वास्थ्य, धन और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान शिव ने प्रदोष व्रत पर चंद्र देव को श्राप से मुक्त किया था। इसलिए, यह माना जाता है कि जो भक्त, इस शुभ दिन पर व्रत रखते हैं और भगवान शिव की पूजा में भाग लेते हैं, उन्हें अपने अतीत और वर्तमान के पापों से मुक्ति मिलती है।

The term Shivaratri means the 'Great Night of Lord Shiva' and falls on the 13th night and 14th day of the New Moon. Throughout history, there are various legends that describe the significance of Lord Shiva. According to one of them, it is on this night that Lord Shiva performed his cosmic dance of ‘creation, preservation and destruction’, i.e. "The Tandav Dance". Yet another legend says that Shivratri was the night of the great union of Shiva and Shakti i.e. the convergence of the masculine and feminine energies of the world. It is believed that making offerings to the Shivalinga on this day helps people to get rid of their past sins and attain salvation or moksha.

शिवरात्रि शब्द में शिव का अर्थ है, कल्याण और रात्रि शब्द 'रा' दानार्थक धातु से बना है, जिसका तात्पर्य सुख प्रदान करने वाली रात्रि से है। जो प्रत्येक अमावस्या की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है। मान्यता है कि शिवरात्रि के दिन भगवान शिव ने 'सृजन, संरक्षण और विनाश', यानी "तांडव नृत्य" का अपना लौकिक नृत्य किया था।

स्कंध पुराण में भी विशेष रूप से शिवरात्रि व्रत का वर्णन है। इस दिन रुद्राभिषेक का विशेष महत्व है। मासिक शिवरात्रि के दिन रुद्राभिषेक किया जाए तोमें बहुत लाभकारी होता है। इस दिन व्रत करने से मनोवांछित वर की प्राप्ति होती है और विवाह आ रही रुकावटें दूर होती है। मासिक शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर जल चढ़ाने से लोगों को अपने पिछले पापों से छुटकारा मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

The Kaal Sarp Yog is a scary phenomenon that can cause utter misery in one's life. A person under the affliction of this Dosha leads a life of pain and misfortune. This yoga has the capacity to cancel out all the good Yoga’s of the chart. A person having the Kaal Sarp Yog in his/her Kundali often dreams about snakes. They visualize themselves getting bitten by such reptiles and get a feeling of someone’s trying to strangulate them. They also repeatedly see their deceased relatives in their dreams. A possible solution to get rid of this problem is to participate in Kaal Sarp Dosh Nivaran Puja.

काल सर्प दोष किसी के जीवन में अत्यधिक दुख का कारण बन सकता है। इस दोष से पीड़ित व्यक्ति दुख और दुर्भाग्य का जीवन व्यतीत करता है। यह योग जन्म कुंडली के सभी अच्छे योगों पर नकारात्मक प्रभाव डालने की क्षमता रखता है। जिस व्यक्ति की कुंडली में काल सर्प दोष होता है, वह अक्सर सांपों के बारे में सपने देखता है। वे सपने में अपने मृत रिश्तेदारों को भी बार-बार देखते हैं। इस समस्या से छुटकारा पाने का एक संभावित उपाय काल सर्प दोष निवारण पूजा में भाग लेना है।

Legend says that Lord Shiva devoured the poison that came out of the ocean during the Samudra Mantha' in order to save the world. Therefore, Lord Shiva’s Devotees worship him and perform Rudrabhisek Puja to thank Lord Shiva for always protecting his followers from all kinds of dangers and diseases. It is believed that Lord Shiva held the venom in his throat, turning it blue, and thus, he is also referred as Neelkantha. Devotees participate in Rudrabhishek Puja with the desire of having a child, seeking a happy married life, good life partner, good career and a healthy & wealthy life.

किंवदंती के अनुसार, भगवान शिव ने समुद्र मंथन के समय, दुनिया को बचाने के लिए समुद्र से निकले विष को ग्रहण कर लिया था। इसलिए, भगवान शिव के भक्त उनकी रुद्राभिषेक करते हैं ताकि भगवान शिव अपने भक्तो को सभी प्रकार के खतरों और बीमारियों से बचाये रखे। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव ने विष को अपने गले में धारण किया था, जिससे वह नीला हो गया, और इसलिए उन्हें नीलकंठ भी कहा जाता है।

भक्त संतान प्राप्ति, सुखी वैवाहिक जीवन, अच्छा जीवन साथी, अच्छे व्यवसाय और सवास्थ्य की कामना के साथ रुद्राभिषेक पूजा में भाग लेते हैं। पूजा के अंत में, भक्त शिव चालीसा का पाठ करते हैं और आरती भी करते हैं।

In Hinduism, there has been a tradition since ancient times to offer Prasad in a Temple or in front of an idol of Deity. Lord Shiva likes Bhang and Panchamrit in the form of Bhog. After bathing the Shivalinga with milk, curd, honey, sugar, ghee and water, hemp, sandalwood, flowers, roli and clothes are offered to Lord Shiva. It is also mentioned in Shiva Purana that Lord Shiva likes Bel Patra. It is believed that millions of virtues are attained by offering Bhog to Lord Shiva.

हिन्दू धर्म में मंदिर में या किसी देवी या देवता की मूर्ति के समक्ष प्रसाद चढ़ाने की प्राचीनकाल से ही परंपरा रही है। शिव को भोग के रुप में भांग और पंचामृत का नैवेद्य पसंद है। भोले को दूध, दही, शहद, शक्कर, घी, जल से स्नान कराकर भांग-धतूरा, चंदन, फूल, रोली, वस्त्र अर्पित किए जाते हैं। भगवान शिव को बेलपत्र बेहद पसंद है। इसका उल्लेख शिवपुराण में भी मिलता है। भगवान शिव को भोग अर्पित करने से करोड़ों पुण्य की प्राप्ति होती है।

Generally, making any offering to the Shivalinga has its own importance but offering 'Vastra' or clothes to Lord Shiva has special significance. It is believed that Lord Shiva loves green and white colours. Offering white or green colored clothes and Janeu to Lord Shiva brings success in life and one receives Lord Shiva's blessings.

ऐसे तो शिवलिंग पर अर्पित की जाने वाली हर सामग्री का अपना महत्व होता है। लेकिन भगवान शिव को वस्त्र अर्पित करने का विशेष महत्व है। मान्यता है कि भगवान शिव को हरा और सफेद रंग बेहद पसंद है। भगवान शिव को सफेद या हरे रंग का वस्त्र और जनेऊ अर्पित करने से जीवन में सफलता मिलती है और शिवकृपा प्राप्त होती है।

Brahman Bhojan is a ritual performed for the departed souls of ancestors. Brahman bhoj is done to satisfy the desires of the souls of our ancestors and let them rest in peace. Brahman Bhoj rituals help cleanse all the sins of our forefathers and help their souls to attain moksha. Also, the one who performs this ritual is said to earn good karma and is liberated from bad Karmas of past and present life.

On the auspicious occasion of Pradosh Vrat & Shivratri, offering Bhojan and Dakshina to Brahman is believed to absolve individuals from all sins. It is also believed that unless a Brahman prays to God through the chanting of Mantras, God cannot come and attend the puja rituals. Therefore, Brahman Bhoj is considered essential for the Puja in Hindu Dharma.

ब्राह्मण भोज पूर्वजों की दिवंगत आत्माओं के लिए किया जाने वाला अनुष्ठान है। ब्राह्मण भोज हमारे पूर्वजों की आत्माओं की अधूरी इच्छाओं को पूरा करने के लिए किया जाता है। ब्राह्मण भोज हमारे पूर्वजों को उनके पापों से मुक्त करने के लिए किया जाता है और उनकी आत्माओं को मोक्ष प्राप्त करने में मदद करता हैं। साथ ही, जो ये अनुष्ठान करवाता है, उसको पुण्य प्राप्त होता है और अतीत और वर्तमान जीवन के बुरे कर्मों से मुक्ति मिलती है।

ऐसा माना जाता है कि प्रदोष व्रत और शिवरात्रि पर ब्राह्मण को भोजन और दक्षिणा की भेंट अर्पण करने से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। यह भी माना जाता है कि जब तक कोई ब्राह्मण मंत्रों के उच्चारण के माध्यम से भगवान से प्रार्थना नहीं करता है, तब तक भगवान पूजा अनुष्ठानों में नहीं आते। इसलिए, हिंदू धर्म में पूजा के लिए ब्राह्मण भोज को आवश्यक माना जाता है।

A rudraksha is a seed of the Elaeocarpus ganitrus tree, which is primarily found in the Himalayas. Rudraksha Mala plays a significant role in a spiritual seeker's life.

Five-faced beads or Panch Mukhi Rudraksha Mala promotes general wellbeing, health and brings stability to all individuals. Panch Mukhi Rudraksha Mala lowers blood pressure and brings certain calmness and alertness in our nervous system. The beads safeguards the individual from negative energies and could be also used for meditation and prayer.

If you choose to add Panch Mukhi Rudraksha Mala in one of the packages, the same will be delivered via courier to your home address that you will submit after the payment process. It will be delivered after the Kaal Sarp Dosha Puja and Rudrabhishek Puja will be conducted by chanting your Name & Gotra in Nagvasuki Mandir, Prayagraj on Pradosh Vrat & Shivratri.

रुद्राक्ष एलियोकार्पस गणित्रस वृक्ष का बीज है, जो मुख्य रूप से हिमालय में पाया जाता है। रुद्राक्ष माला आध्यात्मिक साधक के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

पंच मुखी रुद्राक्ष माला अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है और सभी व्यक्तियों में स्थिरता लाती है। पंच मुखी रुद्राक्ष माला रक्तचाप को कम करती है और हमारे मन को शांति और स्थिरता प्रदान करती है। यह रुद्राक्ष माला व्यक्ति को नकारात्मक ऊर्जाओं से बचाती हैं। इसे ध्यान और प्रार्थना करने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

यदि आप किसी पैकेज में पंच मुखी रुद्राक्ष माला का चयन करते हैं, तो रुद्राक्ष माला को आपके घर के पते पर संदेशवाहक(कूरियर) के माध्यम से भेजा जाएगा। प्रदोष व्रत और शिवरात्रि को नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज में आपके नाम, गोत्र का उच्चारण करके, काल सर्प दोष पूजा और रुद्राभिषेक पूजा के पश्चात् रुद्राक्ष माला आपके घर भेजी जाएगी।

Panch Meva is a combination of five dry fruits. Panch Meva is related to 5 elements in the universe, namely Water, Fire, Earth, Sky and Wind. Panch Meva Prasad mainly includes almond, raisins, dry coconut, makhana and dry dates. In addition to spiritual benefits, the Prasad has health benefits for the Devotees.

Prasad will be delivered via courier to your home address that you will submit after the payment process. It will be delivered after the Puja will be conducted by chanting your Name & Gotra in Nagvasuki Mandir, Prayagraj on Pradosh Vrat & Shivratri.

पंच मेवा प्रसाद पाँच सूखे मेवों के मिश्रण से बना है। पंच मेवा प्रसाद, ब्रह्मांड के 5 तत्वों का प्रतिनिधित्व करता है, जल, अग्नि, पृथ्वी, आकाश और पवन। पंच मेवा प्रसाद में मुख्य रूप से बादाम, किशमिश, सूखा नारियल, मखाना और सूखी खजूर शामिल होती हैं। आध्यात्मिक लाभ के साथ, प्रसाद भक्तों के स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होता हैं।

प्रसाद को आपके घर के पते पर संदेशवाहक(कूरियर) के माध्यम से भेजा जाएगा। प्रदोष व्रत और शिवरात्रि को नागवासुकी मंदिर, प्रयागराज में आपके नाम, गोत्र का उच्चारण करके, काल सर्प दोष पूजा और रुद्राभिषेक पूजा के पश्चात्, प्रसाद आपके घर भेजा जायेगा।

In case, you don't know your Gotra, add your caste during the registration process for Puja. In case you don’t know that, add your full name during the registration process. These details would be chanted by Pandit ji during Puja. Feel free to contact us at +919015367944

यदि आपको अपना गोत्र पता नहीं है, पूजा के लिए पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान अपनी जाति लिखे। यदि ,आप यह भी नहीं जानते तो, पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान अपना पूरा नाम लिखे। इन विवरणों का पंडित जी द्वारा पूजा के दौरान जाप किया जाएगा। आप हमसे यहाँ पर समपर्क +919015367944 कर सकते है।

DevDarshan has family packages available for Puja. Please contact us at +919015367944 via a call or WhatsApp for the family package.

देवदर्शन में पूजा के लिए पारिवारिक पैकेज उपलब्ध हैं। परिवार पैकेज के लिए कॉल या व्हाट्सएप के माध्यम से +919015367944 संपर्क कर सकते है।

bookendL

bookend
WhatsappImage
WhatsappImage