​​

Back

Sun Temple

सूर्य मंदिर


Konark, Odisha

कोणार्क, ओडिशा

Sun Temple सूर्य मंदिर

Description

Konark Sun Temple (Surya Mandira) is a 13th-century Sun temple at Konark about 35 kilometres (22 mi) northeast from Puri on the coastline of Odisha, India. The temple construction is attributed to king Narasimhadeva I of the Eastern Ganga Dynasty . Dedicated to the Hindu Sun God Surya, what remains of the temple complex has the appearance of a 100-foot (30 m) high chariot with immense wheels and horses, all carved from stone. Once over 200 feet (61 m) high, much of the temple is now in ruins, in particular the large shikara tower over the sanctuary; at one time this rose much higher than the mandapa that remains. The structures and elements that have survived are famed for their intricate artwork, iconography, and themes, including erotic kama and maithuna scenes. Also called the Surya Devalaya, the temple is a classic illustration of the Odisha style of Architecture or Kalinga Architecture .

कोणार्क सूर्य मंदिर भारत के ओडिशा के तट पर पुरी से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मंदिर को 1250 में पूर्वी गंगा राजवंश के राजा नरसिम्हदेव प्रथम ने बनवाया था।हिंदू सूर्य देवता को समर्पित मंदिर परिसर के अवशेषों में 100 फीट (30 मीटर) ऊंचे रथ और घोड़ों के साथ रथ की उपस्थिति है, जो सभी पत्थर से तराशे गए हैं। जो संरचनाएं और तत्व बच गए हैं, वे उनकी जटिल कलाकृति, और विषयों के लिए प्रसिद्ध हैं, जिनमें कामुक दृश्य शामिल हैं। इस मंदिर को सूर्य देवालय भी कहा जाता है। यह कलिंग वास्तुकला की शैली का एक उदाहरहन है।

Temple Story

Legend conveys that the temple was constructed by Samba, the son of Lord Krishna. It is said that Samba was afflicted by leprosy, brought about by his father's curse on him. After 12 years of penance, he was cured by Surya, the Sun God, in whose honour he built this temple. However, some beleive that between the 5th and 15th Century CE, the Eastern Ganga Dynasty ruled the historic Kalinga region, which corresponds to large parts of modern-day Odisha and parts of West Bengal, Andhra Pradesh and Chhattisgarh. Narsimha Deva I of the dynasty, who ruled from 1236 to 1287 CE, issued orders for the construction of a Sun Temple at Konark in 1244, as Konark has been known as the abode of the Sun God since ancient times. Konark is widely believed to be a combination of two words, ‘kona’ (corner or angle) and ‘arka’ (Sun), probably due to its geographical location as the place marks a spot where the sun appears to be rising at an angle. What makes this site even more sacred for Hindus is a legend that says that Lord Shiva himself worshipped Lord Sun here to atone for his sins.

किंवदंती बताती है कि मंदिर का निर्माण भगवान कृष्ण के पुत्र सांबा द्वारा किया गया था। ऐसा कहा जाता है कि सांबा कुष्ठ रोग से पीड़ित था क्युकी उसके पिता ने उसे शाप दिया था। 12 साल की सूर्य देवता की तपस्या के बाद, वह ठीक हो गया था, जिनके सम्मान में उन्होंने इस मंदिर का निर्माण किया था। हालांकि, कुछ लोगों का कहना है कि 5 वीं और 15 वीं शताब्दी के बीच, पूर्वी गंगा राजवंश ने ऐतिहासिक कलिंग क्षेत्र पर शासन किया। 1236 से 1287 तक शासन करने वाले वंश के नरसिंह देव प्रथम ने 1244 में कोणार्क में एक सूर्य मंदिर के निर्माण के आदेश जारी किए क्योंकि प्राचीन काल से कोणार्क को सूर्य देवता के निवास के रूप में जाना जाता है। कोणार्क व्यापक रूप से दो शब्दों के मेल से बना है, 'कोना' (कोना या कोण) और 'अर्का' (सूर्य), इसका यह नाम इसकी भौगोलिक स्थिति के कारण हुआ क्यूकी यहा पर सूर्य एक कोण पर उदय होता प्रतीत होता है। इस स्थल को एक किंवदंती और भी पवित्र बना देती है जिसके अनुसार भगवान शिव ने अपने पापों का प्रायश्चित करने के लिए यहां भगवान सूर्य की पूजा की थी।

Location

Photos

Latest Feed

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Temple History

मंदिर का इतिहास

Prayer

Flowers

Bell

Diya

Prasad

Temple Story (English)

मंदिर की कहानी (अंग्रेज़ी)

Location

Photos

​ ​